सिक्किम में पर्यटन स्थल: सिक्किम, जिसे ‘पूर्व का स्विट्जरलैंड’ भी कहा जाता है, हिमालय की गोद में भारत का सबसे छोटा राज्य है। सिक्किम को भारत के सबसे खूबसूरत शहरों में से एक माना जाता है और प्रकृति के वरदानों से भरा यह जादुई स्थान हिमालय पर्वत क्षेत्र में स्थित है। गोग की पहाड़ियाँ यहाँ आसमान से आच्छादित हैं। तीस्ता नदी का पानी पहाड़ों पर जाने वाले पहाड़ों के मैदानों में उतरता है। यह राज्य छोटा है, लेकिन यहां के दृश्य अद्भुत हैं।

Advertisement

सिक्किम एक पहाड़ी इलाका है जो हिमालय के पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है। सिक्किम में कई हिल स्टेशन हैं, जिनकी ऊँचाई 280 मीटर से 8,585 मीटर तक है। राज्य का सर्वोच्च बिंदु माउंट कंचनजंगा है, जिसे पृथ्वी की तीसरी सबसे ऊंची चोटी के रूप में भी जाना जाता है। सिक्किम सीमा के पूर्व में भूटान, पश्चिम में नेपाल और उत्तर में तिब्बत की उच्च सहायक नदी है।

Read Article in English

सिक्किम के खुबसूरत पर्यटक स्थल | Tourist Places in Sikkim in Hindi

1. गंगटोक (Gangtok)

Gangtok

सिक्किम की राजधानी गंगटोक बहुत ही मनमोहक है। यह शहर समुद्र तल से 1800 मीटर दुरी की ऊंचाई पर स्थित है। पहाड़ियों की ढलान पर दोनों ओर आकर्षक इमारतें दिखाई देती हैं। शहर में पारंपरिक रीति-रिवाजों और आधुनिक जीवनशैली का अनूठा मेल देखने को मिलता है। यह एक सुंदर शहर है जहाँ ज़रूरत की हर आधुनिक चीज़ आसानी से उपलब्ध है।

2. सोमगो झील (Tsomgo Lake)

Tsomgo Lake

सोमगो झील, यह झील एक किलोमीटर लंबी है, अंडाकार स्थानीय लोग इसे बहुत पवित्र मानते हैं। मई और अगस्त के बीच, झील क्षेत्र बहुत सुंदर हो जाता है। सोमगो झील में दुर्लभ फूल देखे जा सकते हैं। इनमें बसंती गुलाब, आइरिस और नीले-पीले पोर्टल शामिल हैं। झील में जलीय जीवों और पक्षियों की कई प्रजातियाँ हैं। यह स्थान लाल पांडा के लिए भी जाना जाता है। सर्दियों में झील का पानी जम जाता है।

3. युक्सोम (Yukosm)

yuksom

युक्सोम, यह सिक्किम की पहली राजधानी थी। ऐसा कहा जाता है कि सिक्किम के पहले महान शासक ने 1641 में लामा के तीन विद्वानों से युक्सोम को शुद्ध किया था। इस त्योहार के अवशेष अभी भी नॉर्बुगंगा कोर्टेन में मौजूद हैं। सिक्किम का इतिहास यहाँ से शुरू होता है, इसलिए इस जगह को एक पवित्र स्थान माना जाता है। युक्सोम फेमस माउंट कंचनजंगा की चढ़ाई के लिए एक बेस कैंप भी है।

4. सिक्किम रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ तिब्बतोलॉजी (Sikkim Research Institute of Tibetology)

Sikkim Research Institute of Tibetology

इसे राष्ट्रीय स्तर पर तिब्बती अध्ययन और अनुसंधान केंद्र के रूप में जाना जाता है। यह संस्था दुर्लभ पांडुलिपियों, पुस्तकों और बौद्ध धर्म से संबंधित संकेतों के व्यापक संग्रह के रूप में प्रसिद्ध है। यह इमारत तिब्बती वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण है, जो ओक और सुनाबार के एक छोटे से जंगल से घिरा हुआ है। इस संस्थान में कला से संबंधित धार्मिक कलाकृतियां हैं और रेशम की कढ़ाई के साथ अद्भुत पेंटिंग भी हैं।

5. नाथुला दर्रा (Nathula Pass)

Nathula Pass

नाथुला दर्रा, 14,200 फीट की ऊंचाई पर, नाथुला दर्रा भारत-चीन सीमा पर स्थित है। यह सिक्किम को चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से जोड़ता है। यह यात्रा अपने आप में एक आनंद देने वाला अनुभव है। यह रास्ता अद्भुत है जब यह धुंध की चट्टानों, टेढ़े-मेढ़े रास्तों और पहाड़ों के माध्यम से झरने से ढंका है। पर्यटकों को इस स्थान पर जाने की अनुमति होनी चाहिए।

सिक्किम मौसम की जानकारी (Weather Information of Sikkim)

खूबसूरत जगह, खूबसूरत मौसम सिक्किम। सिक्किम भारत के उन चुनिंदा राज्यों में आता है जहाँ हर साल नियमित रूप से बर्फबारी होती है। यहाँ का मौसम उत्तरी क्षेत्र के टुंड्रा से उत्तर में बदल जाता है और पूर्वी क्षेत्र में उप-उष्णकटिबंधीय मौसम में।

उत्तरी क्षेत्र, जहां टुंड्रा सीज़न पाया जाता है, हर साल चार महीने बर्फ से ढका रहता है और तापमान 0 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है। यहाँ मौसम रहता है क्योंकि यहाँ का तापमान 28 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा नहीं बढ़ता है और ठंड में 0 डिग्री सेल्सियस तक नहीं जमता है।

मानसून का मौसम थोड़ा खतरनाक होता है क्योंकि इस दौरान भारी बारिश होती है जिससे भूस्खलन का खतरा होता है और पर्यटकों को इस समय यहाँ आने से बचने की सलाह दी जाती है।

सिक्किम तक कैसे पहुंचे (How to Reach Sikkim)

वायुमार्ग (Airway) – सिक्किम का अपना हवाई अड्डा नहीं है। निकटतम हवाई अड्डा पश्चिम बंगाल में बागडोगरा (सिलीगुड़ी के पास) है। जो सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 125 किमी दूर स्थित है। बागडोगरा दिल्ली और कोलकाता की नियमित उड़ानों से जुड़ा हुआ है।

रेलमार्ग (Railway)  सिक्किम में कोई रेल नेटवर्क नहीं है। निकटतम रेलवे स्टेशन पश्चिम बंगाल में न्यू जलपाईगुड़ी (सिलीगुड़ी के पास) पर है, जो गंगटोक सहित पूर्वोत्तर के कई बड़े शहरों को जोड़ता है।

हिंदी में पढ़े

 इन्हें भी जरुर पढ़ें: 

Advertisement

About the author

hindiblog

1 Comment

Leave a Comment